बौद्ध धर्म के दो भाग क्यों हुए? हीनयान और महायान में अन्तर

बौद्ध धर्म में मतभेद के कारण

 भगवानबुद्ध के निर्वाण के मात्र 100 वर्षो बाद ही बौद्ध धर्म में मतभेद उभरकर सामने आने लगे थे| वैशाली में सम्पन द्वितीय बौद्ध संगति में थेर भिक्षुयों ने मतभेद रखने वाले भिक्षुयों को संघ से बाहर निकाल दिया| बाहर निकाले गए भिक्षुयों ने उसी समय अपना अलग संघ बनाकर स्वयं को “महासांघिक” और जिन्होंने बाहर निकाला था उन्हें “हीनसाघिक” नाम दिया| जिसने कालांतर में महायान और हीनयान का रूपधारण किया|

सम्राट अशोक ने 249 BC में पाटलिपुत्र में तृतीय बौद्ध संगति का आयोजन कराया जिसमे भगवान बुद्ध के वचनों को संकलित किया गया| इस बौद्ध संगति में पालि त्रिपिटक का संकलन हुआ| श्रीलंका में प्रथम शती BC में पालि त्रिपिटक को सर्वप्रथम लिपिबद्ध किया गया था| यही पालि त्रिपिटक अब सर्वाधिक प्राचीन त्रिपिटक के रूप में उपलब्ध है|

हीनयान का दर्शन – 

हीनयान का आधार मार्ग आष्टांगिक है| वे जीवन को कष्टमय मानते है| इन कष्टो से छुटकारा पाने के लिए व्यक्ति को स्वयं ही प्रयास करना होगा क्योंकि आपकी सहायता करने के लिए न कोई ईश्वर है, न कोई देवी और न ही कोई देवता| बुद्ध की उपासना करना भी हीनयान विरुद्ध कर्म है|

खुद मरे बगैर स्वर्ग नहीं मिलेगा इसलिए जंगल में तपस्या करो| जीवन के हर मोर्चे पर पराक्रम करो| पूजा, पाठ, ज्योतिष और प्रार्थना सब व्यर्थ है, यह सिर्फ सुख का भ्रम पैदा करते है और दिमाग को दुविधा में डालते है| शाश्वत सुख की प्राप्ति के लिए स्वयं को ही प्रयास करना होगा|हीनयान कई मतों में विभाजित था| माना जाता है कि इसमें कुल अठारह मत थे जिसमें से प्रमुख तीन है – थेरवाद (स्थविरवाद), सर्वास्तित्ववाद (वेभाषित) और सोतांत्रिक|

हीनयान के सिद्धांतों के अनुसार बुद्ध एक महापरुष थे| उन्होंने अपने प्रयत्नों से निर्वाण प्राप्त कर निर्वाण प्राप्ति का उपदेश दिया| हीनयान अनीश्वरवादी और कर्मप्रधान दर्शन है| भाग्यवाद जीवन का दुश्मन है|

महायान का दर्शन –

महायान ने बुद्ध को ईश्वर तुल्य माना| सभी प्राणी बुद्धत्व को प्राप्त कर सकते है| दुःख है तो बहुत ही सहज तरीके से उनसे छुटकारा पाया जा सकता है| पूजा – पाठ भले ही न करे लेकिन प्रार्थना में शक्ति है और सामूहिक रूप से की गई प्रार्थना से कष्ट दूर होते है|

आत्मा को सभी कष्टों से छुटकारा पाकर जन्म-मरण के चक्र से बाहर निकलना है तो बुद्ध द्वारा निर्वाण प्राप्ति के जो साधन बताये गए है उन्हें अनुशासनबद्ध होकर करे|

महायान भी कई मतों में विभाजित है| महायान अश्वघोष के ग्रंथों और नागार्जुन के माध्यमिक और असंग के योगाचार्य के रूप में महायान के विकसित रूप की स्थापन्ना हुई|

महायान एक विशाल यान अर्थात जलपोत के समान है जिसमे कई लोग बैठकर संसार सागर को पार कर सकते है, इसलिए वे सर्वमुक्ति की बात करते है| बुद्ध को भगवान मानते है और उनके कई अवतार के होने की घोषणा भी करते है|

महायानियों ने ही संसार भर में बुद्ध की मूर्ति और प्रार्थना के लिए स्तुपो का निर्माण किया| यूनानी, ईसाई, पारसी और अन्य धर्मानुपायी महायानियों की प्रार्थना पध्दति, स्तूप रचना, संघ व्यवस्था, रहन-सहन और पहनावे से प्रभावित थे| उन्होंने महायानियों की तरह ही उन सभी व्यवस्थायो की स्थापना की|

हीनयान एवं महायान में अन्तर – 

हीनयान –

1. हीनयान वैयक्तिक मुक्ति पर जोर देता है, अर्थात व्यष्टि हित ही सर्वोपरि है|

2. इसमें बुद्ध को महापुरुष माना है|

3. हीनयानी बुद्ध की मूर्ति नहीं, वरन प्रतीकों का प्रयोग करते है|

4. बुद्ध का पुनर्जन्म नहीं|

5. प्रचार का माध्यम पालि|

6. संप्रदाय सर्वास्तिवादीन, स्थविर्वादिन, वैभाषिक, सौत्रान्तिक, समित्या|

7. फैलाव – श्रीलंका, वर्मा, दक्षिण पूर्व एशिया|

8. प्रमुख शासक अशोक, कालाशोक|

महायान –

1. यह समग्र मुक्ति पर जोर देता है और इसके लिए समष्टि हित ही सर्वोपरि है|

2. इसमें बुद्ध को देवता माना है तथा इसकी पूजा-अर्चना की जाने लगी|

3. महायानी मूर्ति पूजा में विश्वास करते है|

4. बुद्ध का पुनर्जन्म होगा क्योंकी विश्व अभी कष्ट में है, अतः भविष्य में बुद्ध की मान्यता है| 

5. प्रचार की भाषा संस्कृत, अपवाद है मिलिंदपन्हों जो महायान का ग्रन्थ होकर भी पालि में है|

6. संप्रदाय शून्यवादी या माध्यमिक, विज्ञानवाद या योगाचार, वज्रयान, कालचक्रयन|

7. फैलाव – चीन, मध्य एशिया, कोरिया, जापान, तिब्बत, नेपाल|

8. प्रमुख शासक कनिष्क, हर्षवर्द्धन, धर्मपाल, देवपाल (कनिष्क शून्यवाद का पक्षधर, हर्षवर्द्धन विज्ञानवाद का, देवपाल और धर्मपाल वज्रयान के समर्थक)

1 thought on “बौद्ध धर्म के दो भाग क्यों हुए? हीनयान और महायान में अन्तर

Leave a Reply

Your email address will not be published.