भारत सरकार अधिनियम 1935 क्या है || भारत सरकार अधिनियम 1935 के महत्वपूर्ण तथ्य

भारत सरकार अधिनियम 1935

भारत सरकार अधिनियम 1935 क्या है?

1935 का अधिनियम एक विस्तृत अधिनियम था| यह अंग्रेजों द्वारा भारत मे लागू की गयी अंतिम महत्वपूर्ण संवैधानिक व्यवस्था थी|

भारत सरकार अधिनियम 1935 के महत्वपूर्ण तथ्य –

● लार्ड लिनलिथगो की अध्यक्षता में ‘संयुक्त समिति’ की रिपोर्ट पर 4 अगस्त 1935 को ब्रिटिश सम्राट की अनुमति से यह अधिनियम बना|

● इस अधिनियम में संशोधन का अधिकार केवल ब्रिटिश संसद को था|

● संघ सूची राज्य सूची और समवर्ती सूची विषयो को इसी अधिनियम द्वारा विभाजित किया गया|

● प्रान्तों में द्वैध शासन का अंत भी इसी अधिनियम द्वारा हुआ|

● इस अधिनियम द्वारा केंद्र में द्वैध शासन लागू किया गया तथा प्रान्तों में स्वशासन लागू किया गया|

● इस अधिनियम द्वारा लंदन स्थित भारत मंत्री की ‘भारत परिषद’ को समाप्त कर दिया गया|

● इस अधिनियम द्वारा 1935ई. में ‘वर्मा’ को भारत से अलग कर दिया| व दो नए प्रान्त उड़ीसा व सिंध का निर्माण हुआ|

● भारत मे संघात्मक सरकार की स्थापना इसी अधिनियम द्वारा की गयी|

● इस एक्ट द्वारा संघ में अवशिष्ट शक्तियां गवर्नर जनरल में निहित थी|

● 1935 के अधिनियम में 451 धाराएं, 10 अनुसूचियां थी| यह यह एक्ट लगभग 450 पृष्ठों में लिखा गया था जिसमे कुल 14 खण्ड थे|

● यह अधिनियम भारत की स्वतंत्रता के बाद भी नया संविधान लागू होने (26 जनवरी 1950) तक चला|

● भारतीय संविधान वस्तुतः इसी अधिनियम पर आधारित है|

पं. जवाहर लाल नेहरू के शब्दों में “यह अनेक ब्रेकों वाली इंजन रहित गाड़ी है|”

जिन्ना के शब्दों में “पूर्णत सड़ा और मूल रूप से बुरा”

एटली के शब्दों में “इस अधिनियम में भारत के भविष्य की राजनीतिक प्रगति का कोई कार्यक्रम नही है|”


अधिक जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है... +919610571004 (☎ & WhatsApp)


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *